वर्षफल विश्लेषण-१

DOB: 8th Jun, 1978 TOB: 10:50 AM POB: Delhi

वर्षफल ३९ साल उम्र

इस साल खाना नं: ९ में ७ ग्रहों का असर पहुँचता हुआ अतः नं: ९ (किस्मत और बुजुर्गी) रंग बिरंगा असर दिखलाएगी कभी नेक तो कभी बद l कार्तिक और पौह माह विशेष महत्वपूर्ण होंगे क्यूंकि इन्ही महीनो में अधिकतर ग्रहों के फल मिलेंगे l

सूरज-मंगल-बुध-शनी में दृष्टि सम्बन्ध के प्रभाव से बुजुर्गों से सम्बंधित हर चीज़ में परेशानी पैदा होगी l चन्द्र-शुक्र-मंगल-शनि में दृष्टि सम्बन्ध के प्रभाव से राज ताल्लुक उम्दा और नेक होगा l

बृहस्पत-चन्द्र-शुक्र के असर से कभी शाह कभी मलंग, कभी खुशहाल कभी तंग होगा l बृहस्पत-चन्द्र-मंगल के असर से तीनो उत्तम और नेक असर देंगे मगर बृहस्पत-चन्द्र-शनि के असर से किस्मत के दरिया में भंवर का खतरनाक नज़ारा यानि किस्मत गोल गोल घुमती और घुमाती होगी l बृहस्पत-मंगल-शनी में दृष्टि सम्बन्ध के असर से बृहस्पत मंदा जिसकी वजह से जद्दी बुजुर्गी से दूरी होगी और कर्जाई होगा बीमारी पर खर्चा होगा l चन्द्र-शुक्र-शनी के असर से खाली ढोल, चन्द्र-मंगल-शनी दिखावे का धन, शुक्र-मंगल-शनी के असर से फिर भी गैबी मदद मिलती रहेगी गृहस्थ औलाद और दुनियावी सुख सुविधा हर वक़्त हाज़िर, बिन बुलाये मददगार हर समय हाज़िर होगा l

सूरज बुध खाना नं: ३ में यह साल इनके इकठ्ठे असर देने के लिए आखिरी साल है l राहू का अब इस साल बुरा असर नहीं होगा l बुध का जाती असर अशुभ होगा यानि व्यापार आदि में नुकसान होगा l झगड़ों का फैसला हक़ में नहीं होगा l अगर गन्दा आशिक होगा तो राहू (ससुराल) और शुक्कर (औरत) दोनों पर अशुभ असर होगा l

सूरज शनी में दृष्टि सम्बन्ध के होने से मंगल बद और राहू अमूमन नीच फल ही देगा l जनम दिन के ४५ दिन के अन्दर अन्दर धन का नुकसान या पिता को कष्ट हो सकता है जिसके उपाय के लिए कंजक पूजन व कंजक सेवा हर महीने करते रहें l इस साल जमा तफरीक बराबर होगी l इन दोनों के झगडे में शुक्कर (औरत) को कष्ट सेहत में खराबी रहेगी l आग के वाक्यात होने का खतरा रहेगा l घर में बंद पड़े लोहे के बाक्स या लकड़ी के ढेर या शराबखोरी अशुभ शनी का संकेत है जिसकी वजह से सेहत कमज़ोर राजदरबार में नुकसान होगा खासकर जब दिन में सम्भोग करने लग जाये अतः दिन में सम्भोग से परहेज करे l मकान जायदाद सम्बन्धी झगडे होंगे l

सूरज केतु के दृष्टि सम्बन्ध में होने से सफ़र में नुकसान और दूसरों से ली गई सलाह भी नुकसान का कारण बनेगी l

सूरज मंगल में दृष्टि सम्बन्ध के परिणाम स्वरुप विरोधी परेशान करते रहेंगे व्यापार में धोखा नज़र कमज़ोर और जायदाद सम्बन्धी झगडे होने के आसार बनते है l

राहू खाना नं: ४ के असर से खर्चों की अधिकता रहेगी l मामे को नुकसान l इस साल भूल कर भी टॉयलेट सीट या गरकी या भट्टी या टट्टी खाना ना बनाये ना तुड़वाये, मकान की छत बिलकुल ना छेड़े, कोयले की बोरियां इकठ्ठी न करें आदि अन्यथा राहू बहुत अशुभ फल देगा l

बृहस्पति-चन्द्र खाना नं ५ के प्रभाव से चन्द्र का असर नेक दोनों एक दुसरे की मदद करते रहेंगे l दोनों ग्रहों का नेक असर आषाढ़ या भादों मॉस मिलेगा राजदरबार उम्दा, और व्यापार में नफा होगा l

बृहस्पति-शुक्र खाना नं: ५ के प्रभाव से इल्म-औलाद-बच्चों की मार्फ़त धन की बरकत होगी l कामदेव की ज्यादती से जिस्मानी नुक्स होंगे l गैर औरतो के सम्बन्ध से धन की चोरी या धन की हानि होगी l बृहस्पति-मंगल में दृष्टि सम्बन्ध से गृहस्थ परिवार और धन दौलत में हर तरह से उत्तम और नेक असर होगा l इसी तरह बृहस्पति-शनी के परस्पर दृष्टि सम्बन्ध से निहायत ही नेक और मुबारक फल होगा बशर्ते की शराबखोरी से दूर रहने वाला हो l खुद भी बढेगा और दूसरों को भी तारेगा अपने खुद के लिए शुभ फल होगा l

चन्द्र-मंगल में दृष्टि सम्बन्ध के प्रभाव से धन दौलत की बरकत होगी, चन्द्र-शनी के असर से सांप डंक मारने से बाज़ नहीं आयेगा अतः कभी कभार सांप को दूध अवश्य पिलायें l शुक्र-मंगल के असर से औरत की सेहत कमज़ोर रहेगी मंगल-शनी के असर से लेनदेन सावधानी से करें और चोरी और लूट से बचने के लिए घर में बुजुर्गों के नाम से उनकी शांति के लिए यग करवाए l बुध-केतु आमदनी की नाली में रोड़ा अटकाते रहेंगे l

सूरज खाना नं ३ के असर से चन्द्र नेक और मंगल बद नहीं होगा चोरी के माल से दूर रहे चाल चलन नेक रखे नानके परिवार पर कोई कष्ट या मुसीबत आ सकती है l

बुध खाना नं ३ में इस घर में बुध अमूमन कम ही नेक असर देता है l सूरज के साथ से बुध अपना आधा अरसा शांत रहता है मगर बाकि का आधा अरसा बुध खराब फल देगा l किस्मत का फर्जी चक्कर खराब करेगा परिवार पर अशुभ असर देगा खासकर ताए चाचे औलाद औरत वालदैन सब पर बुध की मंदी मार पड़ती होगी l कुत्तों की सेवा व पालना, हरी मूंग की दाल से पूरा परहेज रखें हरे रंग से दूर रहें

बृहस्पत खाना नं ५ तभी नेक असर देगा जब बुध भी नेक हो (जो की नहीं है) अतः बुध का उपाय अवश्य करें l किसी से भी कोई मुफ्त उपहार आदि बिलकुल ना ले l चन्द्र खाना नं ५ के असर से व्यापार मंदा मगर फिर भी राजदरबार में इज्ज़त होगी l जुबां पर काबू रखें, अपना भेद किसी को ना बताएं, लालच और खुदगर्जी से दूर रहें, सफ़र से कोई खास लाभ नहीं होगा l

शुक्कर नं ५ के होते रिजक कभी बंद नहीं होगा l सूफी खुराक और सूफी पोशाक तरक्की की बुनियाद होगी वर्ना दरख्त में फसे पतंग जैसा हाल होगा l मंदा चाल चलन धन हानि का बहाना बनेगा l गौ-सेवा से धन की बरकत होगी l

मंगल खाना नं ९ में : भाई से मिल कर रहने से किस्मत नेक होगी l भाई के साथ से नेक गुजरान नेक किस्मत, नास्तिक ना बने l शनी खाना नं ९ में बहुत ही नेक फल देने वाला माना गया है बशर्ते की जब तक शराबखोरी से दूर रहे l विधाता की कलम, बुजुर्गों की सेवा से और भी बढेगा l अब शनी कुदरत की तरफ से कोई धोखा नहीं होने देगा l घर की छत पर कोई चौगाठ या लकड़ी आदि बिलकुल ना रखें l

केतु खाना नं ११ में और साथ ही बुध नं ३ में अतः चन्द्र (माता-दिल-शांति) नेक नहीं होगा l

सभी ज़रूरी उपाय बता दिए हैं ग्रह अपना असर खाना नं से सम्बंधित माह में अमूमन देगा उदाहरण के लिए सूरज अपना शुभ या अशुभ फल आषाढ़ महीने में देगा इसी तरह अन्य ग्रह भी अपना फल उसी महीने देंगे जैसा की ऊपर कुंडली में लिखा है l